anti farmer government,फसलें हो गई बर्बाद, कहां गई सैटेलाइट, 001

किसान भाइयों की फसलें अगर ज्यादा धुआं छोड़ने लगे तो सरकारी सेटेलाइट 2 सेकंड भी उसको पकड़ देती है और फसलें सौ परसेंट खराब हो जाए तो सेटेलाइट खराब हो जाती है या फिर सेटेलाइट को नींद आ जाती है

सरकारी तंत्र के बारे में बात करें दोस्तों सरकारी तंत्र हमेशा एंटी फार्मर रहा है कभी भी किसानों को ऊपर जाने की कोशिश नहीं की गई है

फसलें हो गई बर्बाद, कहां गई सैटेलाइट, anti farmer government 001

क्योंकि अगर किसानों पर आ जाएगा तो नेता अपना पेट पैक कैसे भरेंगे उनको अपना पेट किसानों को गरीब बना कर ही भर सकते हैं

अलग-अलग जगह ओलावृष्टि बारिश और भयंकर तूफान के आने से किसानों के गेहूं की फसलें धान की फसलें और मक्का की फसलें इस प्रकार से अगर सारी भी फसलें नीचे खत्म हो जाती है गिर जाती है उनका 100% नुकसान हो जाता है किसी भी मौसम में हो जाए तो भी सरकार का सेटेलाइट काम नहीं करता है

फसलें हो गई बर्बाद, कहां गई सैटेलाइट, anti farmer government
फसलें हो गई बर्बाद, कहां गई सैटेलाइट, anti farmer government

जब बात आती है दिल्ली में वायु प्रदूषण की तो सरकारी तंत्र बेचारे हरियाणा पंजाब के किसानों के ऊपर सारा का सारा वायु प्रदूषण का जिम्मा डाल देता है उनके खेतों की पराली से दिल्ली में वायु प्रदूषण होता है

हरियाणा में वायु प्रदूषण नहीं होता है वह वायु प्रदूषण दिल्ली जाकर होता है सरकारी दोगलापन किसानों के प्रति

किसानों को पिछड़ा रखने में राजनीतिक पार्टियां अपने हिसाब से कार्य करती रहती है कहीं किसान आगे नहीं बढ़ जाए इसके लिए अलग-अलग लोग अलग-अलग मुद्दे छेड़ते रहते हैं

किसानों को सब्सिडी की कोई जरूरत नहीं होती ना ही उसे किसी मुआवजे की जरूरत होती है

फसलें हो गई बर्बाद, कहां गई सैटेलाइट, anti farmer government 001

गेहूं में कौन सी खाद का प्रयोग करने से गेहूं का उत्पादन बढ़ता है बाली आने के बाद में

किसानों को चाहिए सिर्फ उनकी उपज का सही मूल्य

जब 50 पैसे की चॉकलेट बनाने वाला अपने चॉकलेट का मूल्य निर्धारित रखें और उनको प्रॉफिट ओसारा हिसाब लगाकर मुझे तय कर सकता है तो फिर किसान 6 महीने तक मेहनत करके अपनी उपज का मूल्य खुद तय क्यों नहीं कर सकता है

जब आलू खरीद कर उनके चिप्स बना कर उनके दाम कंपनी खुद तय कर सकती है तो फिर आलू के दाम किसान क्यों नहीं तय कर सकता है

जब पानी की बोतल ₹20 की मिलती है 1 लीटर की तो सैकड़ों लीटर पानी खर्च करके किसान फसल जाता है तो उसका मूल्य वह तय क्यों नहीं कर सकता है

किसान का उपज का मूल्य व्यापारी क्यो तय करते हैं यह सरकार ने नियम क्यों बनाए हैं क्योंकि किसान को आगे नहीं बढ़ाना है

जब कंपनियां घाटे में जाती है तो उन पर क्लेम पास हो जाता है जब फसलें घाटे में जाती है तो उसका क्लेम क्यों नहीं मिलता है

जब व्यापारी दिवालिया हो जाता है तो बैंक उस पर कोई भी कार्रवाई नहीं कर सकते लेकिन किसान अगर दिवालिया हो जाए तो बैंक उसको आत्महत्या करने को मजबूर कर देते हैं

भारतीय स्टेट बैंक के अरबों खरबों रुपए व्यापारी लेकर विदेशों में भाग गये पर बैंक नीलामी किसानों की जमीन की ही करेगा

फसलें हो गई बर्बाद, कहां गई सैटेलाइट, anti farmer government
फसलें हो गई बर्बाद, कहां गई सैटेलाइट, anti farmer government

आप हमारे यूट्यूब चैनल पर जाकर खेती किसानी से संबंधित बहुत सारे वीडियो देख सकते हैं क्लिक करें

सरकारी कर्मचारियों की हड़ताल उनके मांगे मानने पर मजबूर कर देती है सरकार को

किसान सरकार की गोलियां लाठियां खाने के बाद में भी अपनी मांग नहीं मनवा पाते हैं

किसान भाई अगर कितनी भी बलिदानी दे दे अपने हक के लिए कितनी भी लड़ाई लड़े लेकिन सरकारी नहीं झुकती है

क्या कारण है कि सरकारी किसानों की नहीं मानती है

कारण स्पष्ट है हम सभी जानते हैं सारे किसान भाई जानते हैं पूरे देश के किसान जानते हैं कि किसानों में एकता नहीं है सबसे बड़ी बात सबसे बड़ा कारण यही है किसानों में एकता नहीं होने के कारण किसानों की कोई सुनता नहीं है

यह भी पढ़ें गर्मी में खीरे की खेती कैसे करें और कैसे कमाए लाखों रुपए

कोई भी किसानों के हक की लड़ाई हो 4 किसान चले जाएंगे दो रुक जाएंगे क्योंकि वह देखेंगे कि जो जा रहे हैं वह कर देंगे हमें कोई लेना-देना नहीं हमारा कोई नुकसान नहीं हुआ

किसान भाइयों की सिर्फ यही कमी पूरे देश के किसानों के लिए नुकसान का कारण बन रही है अगर किसान चाहे तो सरकार तो क्या पूरा देश हिल जाता है पर किसानों की फूट किसानों को खा रही है

फसलें हो गई बर्बाद, कहां गई सैटेलाइट, anti farmer government 001

क्या है समाधान

किसान भाइयों किसी भी किसान भाई की फसल खराब हो चाहे एक किसान भाई की हो चाहे 5 किसान भाइयों की फसल खराब हो चाहे एक किसान का मामला हो चाहे 50 किसानों का मामला हो सब सब को एकता रखकर भारी संख्या के साथ में सरकार को बताना चाहिए कि हम किसान क्या कर सकते हैं हम पूरे देश का पेट भरते हैं बदले में हम इतना दुख क्यों झेलते हैं इसका सरकार को एहसास हो जाना चाहिए

इसके अलावा किसान भाइयों को एक दूसरे किसानों को सपोर्ट करना चाहिए ताकि दूसरे किसान भाई भी आगे बढ़ सके किसी मुसीबत में उस का साथ देना चाहिए जिससे किसान भाई आत्महत्या करने को मजबूर नहीं हो

यह भी पढ़ें पीएम किसान सम्मान योजना के ₹6000 मिल गए क्या आपको अभी चेक करें

किसान भाई पोस्ट आपको अच्छी लगी तो इसको शेयर करें ताकि सभी किसान भाइयों के पास में हमारी यह पोस्ट पहुंचे

और सब किसान भाई एकता के साथ में किसी भी नुकसान का विरोध करें जिनसे उनको सरकारी तंत्र द्वारा नुकसान की भरपाई हो

दोस्तों सपोर्ट करें हमें और पोस्ट को शेयर जरूर करें

धन्यवाद

जय जवान जय किसान

click here- facebook page

फसलें हो गई बर्बाद, कहां गई सैटेलाइट, anti farmer government 001

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *