जहर के समान है रिफाइंड तेल,100 बीमारियों की जड़ है रिफाइंड तेल

जहर के समान है रिफाइंड तेल,100 बीमारियों की जड़ है रिफाइंड तेल

यह भी पढ़े –मार्च में करें मूंगफली और कमाए लाखों रुपये

आज के जमाने में व्यक्ति बीमारी के कारण पूरी जिंदगी परेशान रहता है वह अधिक से अधिक स्वस्थ रहना चाहता है

और स्वस्थ रहने के लिए ऐसी चीजों का प्रयोग करता है जो उसको स्वस्थ नहीं रखकर बीमारियों को पैदा करती है ऐसी ही एक खतरनाक चीज है रिफाइंड तेल जी हां रिफाइंड तेल एक जहर के समान है

रिफाइंड तेल को रिफाइंड करने के लिए उच्च तापमान का प्रयोग किया जाता है इसके अलावा रिफाइंड प्रोसेसिंग में 6 से 12 केमिकल का प्रयोग होता है 

जिनसे की आपका खाने का तेल एक जहर का रूप ले लेता है रिफाइंड तेल में केलोस्ट्रोल की मात्रा को कम जानकर ही लोग ज्यादा खरीदते हैं सोचते हैं कि no केलोस्ट्रोल ऑयल खाने से हार्ड अटैक आने का खतरा नहीं रहेगा

यह भी पढ़े – पीएम किसान सम्मान योजना ,आपको मिल गए क्या 6000  रुपये ?

लेकिन रिफाइंड तेल में वह सारी चीजें खत्म हो जाती है जो हमारे शरीर के लिए आवश्यक होती है रिफाइंड तेल को मुझे तापमान पर गर्म करने के कारण वह बिल्कुल ट्रांसपेरेंट हो जाता है

 जिससे आपको शुद्ध और साफ दिखता है लेकिन उसमें केमिकल के अलावा कोई अन्य चीज नहीं रहती है

जहर के समान है रिफाइंड तेल,100 बीमारियों की जड़ है रिफाइंड तेल

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए सभी प्रकार के तत्व जरूरी होते हैं शरीर को अपने आपूर्ति करने के लिए हर वह चीज जरूरी होती है जो शुद्ध तेल में उपलब्ध होती है

हमारे पूर्वज शुद्ध घानी का तेल खाकर 100 से डेढ़ सौ साल की उम्र तक जीवित रहे हम रिफाइंड तेल खा कर 50 से 70 साल तक की उम्र मुश्किल से पूरी कर पा रहे हैं

कैसे बचे बीमारियों से

जहर के समान है रिफाइंड तेल,100 बीमारियों की जड़ है रिफाइंड
जहर के समान है रिफाइंड तेल,100 बीमारियों की जड़ है रिफाइंड

सभी बीमारियों से बचने के लिए आज ही अपने किचन से रिफाइंड तेल को बाहर निकाल दें उसकी जगह पर बाजार से शुद्ध सरसों का मूंगफली का तिल का या नारियल का तेल लाकर उसका खाने में उपयोग करें

click kare–youtube video dekhne ke liye

अपने जीवनकाल को बढ़ाने के लिए शुद्ध चीजें खाना जरूरी होता है आज के जमाने में लोग ऑर्गेनिक फूड खाने के लिए अधिक पैसे तक झुका देते हैं ऑर्गेनिक अनाज ऑर्गेनिक सब्जियां ऑर्गेनिक फ्रूट लेने के लिए डेढ़ गुना से लेकर दोगुना पैसा चुका देते हैं फिर खाने के तेल में इतनी लापरवाही क्यों

जहर के समान है रिफाइंड तेल,100 बीमारियों की जड़ है रिफाइंड तेल

राजीव दीक्षित जी के अनुसार पूरे जीवन काल में स्वस्थ रहना है तो जैविक चीजें शुद्ध घानी का तेल शुद्ध कुए का मीठा जल काम में लेना चाहिए बीमारियों को शरीर में घुसने से रोकने के लिए देसी खाने का प्रयोग करना चाहिए

अगर आपके मार्केट में रिफाइंड तेल के अलावा तेल नहीं मिलता है तो आप किसी किसान से मूंगफली का बीज खरीद कर उससे घाणी करवा कर तेल निकलवा कर खा सकते हैं जिन से किसानों को ज्यादा मुनाफा होगा और आपको शुद्ध और स्वस्थ रखने वाला तेल प्राप्त होगा आप किसान से सरसों तिल मूंगफली खरीद कर तेल निकलवा कर खाना चाहिए

शुद्ध तेल की पहचान कैसे करें

यह भी पढ़े – गेहू में बाली आने के समय कोनसा खाद डाले

शुद्ध तेल को पहचानने के लिए उसकी कुछ बूंदे अपनी हथेली में डालें उसके बाद में उसको अपने अंगुली से चिपका कर थोड़ा मसले जिसमें आपको थोड़ा गाढ़ा पर और चिकनाई महसूस होती है और उसमें से खुशबू आती है जिस चीज का तेल है उसकी तो समझ गए वह शुद्ध तेल है अगर आपके हाथ पर तेल में चिपचिपाहट नहीं है खुशबू नहीं है और गाढ़ा पर नहीं है तो वह तेल ओरिजिनल नहीं हैं 

यह भी पढ़े -हम फेसबुक पेज के जरिये भी खेती के बारे में बताते है हमारे पेज को लाइक जरूर करे क्लिक करे 

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *