किसान हो गया बर्बाद, मुआवजा दे राज्य सरकार,100% crop damage

राज्य के विभिन्न हिस्सों में लगातार बारिश और ओलावृष्टि से किसानों की सारी की सारी फसलें तबाह हो गई है किसानों का सारा मेहनत पर पानी फिर गया है

इस वर्ष अधिक बारिश के कारण और अतिवृष्टि के कारण किसानों की वर्षा कालीन फसल बर्बाद हो चुकी है फसलों में पानी भरने के कारण सारी फसलें गल चुकी थी और किसानों को अपना खर्च भी उससे नहीं मिला है

किसान हो गया बर्बाद, मुआवजा दे राज्य सरकार,100% crop damage
किसान हो गया बर्बाद, मुआवजा दे राज्य सरकार,100% crop damage
किसान हो गया बर्बाद, मुआवजा दे राज्य सरकार,100% crop damage

किसान पहले ही कर्जदार है फिर बारिश की फसल ने उसको अधिक कर्जदार बनाया और फिर अभी ओलावृष्टि ने उनको कंगाल बना दिया सभी राज्य सरकारें किसानों के लिए मुआवजे का ऐलान करें और किसानों को अपनी इस स्थिति पर नहीं छोड़े

यह भी पढ़ें क्या है कोरोनावायरस कैसे करें बचाव अभी पढ़िए

राजस्थान के कई इलाकों में अभी-अभी तेज बारिश,तेज हवा और भयंकर ओलावृष्टि ने किसानों की फसलों को बर्बाद करके रख दिया है किसानों की फसलें 100% खराब हो चुकी जिससे किसान कंगाली की कगार पर पहुंच गया है

सोशल मीडिया की जानकारी के अनुसार एक किसान ने विषाक्त पदार्थ खा लिया अपनी फसल को ओलावृष्टि से चौपट होती देख कर इससे किसान के परिवार सदमे में और किसान की हालत गंभीर

किसान हो गया बर्बाद, मुआवजा दे राज्य सरकार,100% crop damage
किसान हो गया बर्बाद, मुआवजा दे राज्य सरकार,100% crop damage

किसानों को ऋण देने वाली सहकारी समितियां कॉरपोरेट बैंक प्राइवेट बैंक सारे के सारे बिना पूछे किसानों के खाते से बीमा के नाम से अच्छी खासी रकम काट लेते हैं जब फसल की बर्बादी हो जाती है तो बीमा क्लेम के नाम से उनको ₹1 भी नहीं मिलता है

यह भी पढ़ें सारी सरकारी होती है किसानों की विरोधी anti farmer government

किसान हो गया बर्बाद, मुआवजा दे राज्य सरकार,100% crop damage

सरकार को चाहिए या तो बैंकों को किसानों के केसीसी अकाउंट से ₹1 भी बीमा के नाम पर नहीं काटे अगर बीमा के नाम पर रुपए लेती है बैंक तो उसको उनकी फसल के अनुमानित उपज के हिसाब से और उस समय के भाव के हिसाब से उसको पूरा क्लेम चुकाना चाहिए या फिर बीमा नहीं करना चाहिए

लगातार गरीब होते हुए किसानों के साथ में सरकारी व्यवस्था बिल्कुल खराब नजर आती है

बड़ी-बड़ी कंपनियां अपने कंपनी का बीमा करवा कर फिर उसके किसी गोदाम या किसी पार्ट में आग लगवा कर नुकसान करवा कर अधिक से अधिक क्लेम प्राप्त कर लेती है जबकि उसका नुकसान कृत्रिम होता है प्राकृतिक नुकसान नहीं होता है फिर भी सरकार और अधिकारियों की मिलीभगत के कारण वह अच्छा खासा से क्लेम ले लेते हैं

किसान हो गया बर्बाद, मुआवजा दे राज्य सरकार,100% crop damage
किसान हो गया बर्बाद, मुआवजा दे राज्य सरकार,100% crop damage

राजस्थान की गहलोत सरकार से निवेदन है कि किसानों के लिए मुआवजे का जल्द से जल्द ऐलान करें और अधिकतम मुआवजा प्रदान करें

किसान हो गया बर्बाद, मुआवजा दे राज्य सरकार,100% crop damage

क्लिक करें और हमारे यूट्यूब पर जाकर देखें वीडियो

जिस प्रकार से किसान की अनुमानित आय होती है प्रति बीघा में या प्रति हेक्टेयर में उस हिसाब से किसानों को मुआवजा मिलना चाहिए

किसान के खेत पर जाकर हर किसान का अलग-अलग निरीक्षण करना चाहिए ना कि अपने कार्यालय में बैठकर फर्जी निरीक्षण करके किसानों को अंधेरे में रखना

किसान हो गया बर्बाद, मुआवजा दे राज्य सरकार,100% crop damage

सरकारी कर्मचारी जैसे पटवारी ग्राम सेवक ग्राम पंचायत सचिव इन सब की जिम्मेदारी होनी चाहिए एक किसान का नुकसान जितना हुआ है उससे कम एंट्री अगर यह करते हैं तो इनको उनकी सजा भुगतनी होगी

प्राय देखा गया है कि पटवारी जो जमीन का लेखा-जोखा रखता है वह अपने साथ में एक प्राइवेट आदमी रखता है और वह प्राइवेट आदमी अपने हिसाब से फसल की गिरदावरी करता है उसके अपने रिश्तेदारों और मिलने वालों का ज्यादा नुकसान बताता है और जिस किसान से उसके बनती नहीं है उसका नुकसान ही नहीं बताता है

यह भी पढ़ें गर्मी में करें खीरे की खेती और कमाए लाखों रुपए

पटवारी के रहने वाले प्राइवेट आदमी को बंद किया जाए और सभी किसानों के साथ में समान रूप से फसल की गिरदावरी की जाए जिससे पात्र किसानों को फायदा मिल सके

किसान हो गया बर्बाद, मुआवजा दे राज्य सरकार,100% crop damage
किसान हो गया बर्बाद, मुआवजा दे राज्य सरकार,100% crop damage

फसल की ऑनलाइन जियो टैगिंग के आधार पर निरीक्षण फसल का निरीक्षण करना चाहिए जिससे वास्तविक स्थिति सरकार को पता चले

किसान के साथ में सरकार धोखा नहीं करें और समर्थन मूल्य बढ़ाने की तैयारी करें

जिस प्रकार से नुकसान का अगर निरीक्षण करती है सरकार तो किसानों के ओलावृष्टि और बारिश की वजह से कहीं जगह पर 100% खराब हो चुका है इसीलिए उस इलाके में 1 वर्ष का बिजली बिल माफ किया जाना चाहिए

बारिश में किसानों को खेती के लिए बिजली की आवश्यकता नहीं होती है फिर भी वह बराबर बिजली बिल भरता है तो बारिश के दिनों में किसानों के बिजली बिल बंद होने चाहिए

बिजली बिल के अंदर किसानों के द्वारा उपभोग की गई बिजली के अलावा कई तरह के चार्ज लगाए जाते हैं सभी तरह के चार्ज सरकार को बंद करने चाहिए

दोस्तों ऐसी पोस्ट लेकर आते हैं हम अपनी वेबसाइट पर हमें आपके सपोर्ट की जरूरत है कृपया हमें सपोर्ट करें कमेंट जरूर करें आपके सुझाव सवाल और हमारे फेसबुक पेज और यूट्यूब चैनल को फॉलो करके आप खेती-बाड़ी से जुड़ी हुई सारी जानकारियां वीडियो के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं दोस्तों पोस्ट को शेयर जरूर करें ताकि सभी किसानों को सरकार के पास में यह पोस्ट पहुंचाने का कार्य करें

धन्यवाद

जय जवान जय किसान

क्लिक करें यहां देखे हमारा फेसबुक पेज

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *